” एक अविरत राजा शिव छत्रपति जयंती की आप सबको बहोत बहोत बधाई “ Previous item How to Clear Your Throat... Next item Balancing Solar Plexus...

” एक अविरत राजा शिव छत्रपति जयंती की आप सबको बहोत बहोत बधाई “

महाराष्ट्र में छत्रपति शिवाजी महाराज की लगभग एक अर्ध-देवताके रूप में पूजा होती है। शिवाजी जयंती महाराष्ट्र में भव्य स्तर पर मनाया जाता है। छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती हर साल १९ वीं फरवरी को मनाया जाता है। शिवाजी ने एक मिशन पर एक छोटे राज्य के एक स्वतंत्र युवा राजकुमार के रूप में अपना आदर्श शुरू किया। छत्रपति शिवाजी ने न केवल महाराष्ट्र के लोगों के लिए बल्कि भारत के मानव जाती के लिए सन्मान जणक व्यक्तिमत्त्व है। भी एक आदर स्थान है। शिवाजी एक महान राजनेता और एक महान योद्धा थे। उनके पास एक बहोत ही उम्दा और बहोत ही अछि और बलवान सेना थी, जिसके दम पे उन्ह्नोने कई सारी लड़ाईया जीती।

शिवाजी महाराज न केवल मराठा राष्ट्र के निर्माता, बल्कि वे मध्यकालीन भारत की सबसे बड़ी रचनात्मक प्रतिभा भी थे । परकीय साम्राज्यों को तोड़ने, राजवंशों विलुप्त न होने देना, इसी वजह से छत्रपति शिवाजी को एक सच्चे ‘राजा के रूप में’ देखा जाता हे । उनकी अविनाशी पारंपरिक विरासत पुरे भारत और हर भारतीय के लिए एक अनूठा उपहार हे । उनकी चमकदार जीत और हर वक़्त मुस्कान ने उनको उनके अनुयायिओ के लिए एक सच्चा राजा का दर्जा हासिल करके दिया । उन्होंने अपनी स्वयं की राजमुद्रा का निर्माण कराया तथा उसे स्वराज्य के लिए प्रस्तुत किया, उनके अनुसार…
” प्रतिपच्चंद्रलेखेव वर्धिष्णुर्विश्ववंदिता।
शाहसुनो शिवस्यैषा मुद्रा भद्राय राजते।।”
अर्थात जैसे जैसे चंद्रमा बढ़ता जाता है वैसे ही इस मुद्रा तथा भारतीय राज्यों की कीर्ति विश्व में बढ़ती जाए।हमे उनके इस उम्दा चरित्र को अपनाना चाहिए, छत्रपति शिवजी के ऊर्जा स्थान उनके माता पिता इनको मेरा सादर प्रणाम । उनके जैसी लगन और इच्छा शक्ति अगर मन में ठान लो तो इस संसार में कुछ भी कठिन नहीं ।

“एनर्जीगुरू अरिहंतऋषीजी” के वैज्ञानिक अध्यात्मक्रांती जैसे अनेक विचारों एवम् “परिवर्तन” के महा-अभियान से जुडने के लिए इस पेज को अवश्य फॉलव करें.

ॐ नमो.

Visit Us On FacebookVisit Us On TwitterVisit Us On Google PlusVisit Us On InstagramVisit Us On PinterestVisit Us On Youtube