सुबह-सुबह ये 4 योगासन करने के हैं कमाल के फायदे, जानिए Previous item शरीर को सुडौल बनाता है... Next item सर्वांगासन - सुंदरता के...

सुबह-सुबह ये 4 योगासन करने के हैं कमाल के फायदे, जानिए

हेल्थ डेस्क: आज के समय में हम इतना व्यस्त हो गए है कि खुद की लाइफस्टाइल बिल्कुल से खराब हो गई है। जिसके कारण आपको कई न कोई बीमारी घेरे रहती हैं। जिसके कारण आप डॉक्टर के पास चक्कर लगाने लगते है।

अगर आप चाहते है कि आप शारीरिक और मानसिक दोनो तरीकों से हेल्दी रहें तो अपने व्यस्त समय से थोड़ा सा समय निकाल कर अपने को हेल्दी रख सकते है। इस समय में रोजाना योग करे। कहा जाता है कि सुबह के समय थोड़ी सी भी एक्सरसाइज या ठहलना आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद हो सकती है।

योग करने के कई फायदे हैं। नियमित योग करने से से आप दिल और याद्दाश्‍त मजबूत होता है। सबसे अच्छी बात है कि योगा से आपके दिमाग में सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार होता है। तो रोज सुबह उठकर इन 3 योगासनों को करना चाहिए। जिससे कि आपको शरीर में किसी भी तरह की समस्य़ा न हो। जानिए इन योगासनों के बारें में।

भुजंगासन
इस आसन से न सिर्फ पेट की चर्बी कम होती है बल्कि बाजुओं, कमर और पेट की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और शरीर लचीला बनता है।

इस योगासन को करने से पहले पेट के बल सीधा लेट जाएं और दोनों हाथों को माथे के नीचे टिकाएं। दोनों पैरों के पंजों को साथ रखें। अब माथे को सामने की ओर उठाएं और दोनों बाजुओं को कंधों के समानांतर रखें जिससे शरीर का भार बाजुओं पर पड़े।
अब शरीर के अग्रभाग को बाजुओं के सहारे उठाएं। शरीर को स्ट्रेच करें और लंबी सांस लें। कुछ सेकंड इसी अवस्था में रहने के बाद वापस पेट के बल लेट जाएं।

बलासन
बलासन उन लोगों के लिए अच्छा आसन है जिन्होंने योगासन की शुरुआत की हो। इससे पेट की चर्बी भी कम होती है और मांसपेशियां मजबूत होती हैं। गर्भवती महिलाएं या घुटने के रोग से पीड़ित लोग इसे न करें। सबसे पहले घुटने के बल जमीन पर बैठ जाएं जिससे शरीर का सारा भाग एड़ियों पर हो। गहरी सांस लेते हुए आगे की ओर झुकें। आपका सीना जांघों से छूना चाहिए और माथे से फर्श छूने की कोशिश करें। कुछ सेकंड इस अवस्था में रहने के बाद सांस छोड़ते हुए वापस उसी अवस्था में आ जाएं।

पश्चिमोत्तानासन
इस आसन से पेट के आसपास के हिस्सों (किडनी, लिवर, पैंक्रियाज) को सुचारू कर हमारी पाचन क्रिया को सही बनाता है। इस आसन क्रिया से आपके पेट पर दबाव पड़ता है, जिसका सीधा प्रभाव पेट की चर्बी पर पड़ता है। यदि आपका पेट आगे की ओर कुछ ज्यारदा ही निकल आया है तो इस आसन को नियमित रूप से करने से काफी प्रभाव देख सकते हैं। इससे पीठ दर्द भी सही होता है।

इस आसन के लिए चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों को अपनी सीध में रख कर बैठ जाएं। ध्यान रहे कि पैर मजबूती से जमीन पर रखे हों। अब सांस लेते हुए, अपने दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं और रीढ़ की हड्डी सीधी रखें। सांस छोड़ते समय पेट को अंदर की ओर ले जाते हुए आगे की ओर झुक जाएं।

अगर आप इस आसन को पहली बार कर रहे हैं तो शुरुआत में चाहें तो अपने घुटनों को हल्का मोड़ सकते हैं। ध्यान दें कि आपने शरीर के सभी हिस्सों में किसी प्रकार का खिंचाव तो नहीं बना रखा है।

प्रत्येक सांस खींचने के साथ आप सही मुद्रा में पहुंचते जाते हैं। हर बार सांस खींचने पर आपकी रीढ़ सही मुद्रा में आती है और सांस छोड़ने पर पेट अंदर की ओर जाता है।

इस मुद्रा में एक मिनट तक रुके रहें और फिर इस अवधि को समय के साथ-साथ बढ़ाते जाएं। यदि डायरिया से पीड़ित हैं या पीठ की चोट से तो यह आसन न करें। योग क्रिया का सबसे जरूरी हिस्सा शवासन होता है, जब हम पूरी तरह आराम की मुद्रा में आ जाते हैं।

विन्यास आसन
ब्लड के पंप करने और फेफड़ों में सांस भरने के लिए विन्यास योग अच्छा चुनाव है। ये आपको ताज़गी और एनर्जी देता है। इस आसन के दौरान सांस लेने की ख़ास तकनीक के कारण आपके थके हुए शरीर को आराम मिलता है।

इस आसन को सही तरह से करने के लिए शुरुआत करें पर्वतासन से। इस दौरान श्वास सामान्य रखें और आसन में आने के बाद पांच बार गहरी श्वास लें और छोड़ें। पर्वत आसन करने के लिए जमीन पर पेट के बल लेट जाएं। अब बाजू की मदद से नितंब और कमर के हिस्से को ऊपर उठाएं और सिर जमीन की दिशा में रखें. इस दौरान शरीर का आकार पर्वत जैसा होता है।

अब शरीर के निचले हिस्से को जमीन पर लाएं और अग्रभाग को ऊपर करें। शरीर का सारा भार हाथों पर दें और अग्रभाग को अधिक से अधिक स्ट्रेच करने का प्रयास करें। इस अवस्था में पांच बार गहरी श्वास लें। इसे भुजंगासन की अवस्था कहेंगे।

अब अग्रभाग को नीचे लाएं और शरीर को हथेली व पंजों के बल जमीन से एक बित्ते की दूरी पर रखकर पांच बार गहरी श्वास लें। ठीक वैसा जैसा प्लैंक में करते हैं। इसे कुंभक आसन कहेंगे। इसके बाद पुनः पर्वतासन की मुद्रा में आएं और यह चक्र दोहराएं।

Visit Us On FacebookVisit Us On TwitterVisit Us On Google PlusVisit Us On InstagramVisit Us On PinterestVisit Us On Youtube